दोहा, रोला, सोरठा एवं कुण्डलिया, छंद की परिभाषा,छंद के भेद,प्रमुख छंदों का परिचय

छंद की परिभाषा ( chhand ki paribhasha)  अक्षरों की संख्या एवं क्रम, मात्रागणना तथा यति-गति से संबद्ध विशिष्ट नियमों से नियोजित पद्यरचना ‘छंद’ कहलाती  है। ‘छंद’ की प्रथम चर्चा ‘ऋग्वेद’ में हुई है। यदि गद्य का नियामक व्याकरण है, तो कविता का छंदशास्त्र। छंद पद्य की रचना का मानक है और इसी के अनुसार पद्य … Read more