कभी-कभी दुश्मन का चले जाना भी बहुत दर्द देता है।

न कोई ख्वाब साथ चलता है न कोई मंजिल ही ठिकाना है।  चार लोगों का कंधा है और श्मशान तक जाना है। Awa

मैं एक जिन्दगीपसन्द लड़की हूँ कभी न मौत के बारे में सोचती हूँ न कहती हूँ लेकिन कमाल है ना,कि मुझे आज मौत पर ही लिखना पड़ रहा है।

आज सुबह मेरे लिए बाकी सुबह की तरह ही थी मैं सुबह रसोई में दीदी की हेल्प करवा रही थी। अचानक ही मेरे छोटे भाई ने मुझे आवाज दी मैं उसके पास गई तो वो फोन में कुछ देख रहा था उसने फोन मेरी तरफ कर दिया तो जो मैंने देखा मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था । उसमें मेरी school colleague की ,मेरी सबसे अजीज प्रतिद्वंदी,anime की फोटो लगी थी किसी के स्टेटस पर और लिखा था RIP ।मुझे लगा ये किसी ने मजाक किया है, उसके साथ ऐसा हो ही नहीं सकता अभी मुश्किल से 18 साल की होने में भी कुछ दिन बाकी होंगे, हंसमुख, बातूनी और महत्वकांक्षी लड़की इतने चुपचाप तरीके से दुनिया से जा ही नहीं सकती। लेकिन जैसे-जैसे सूरज आसमान पर चढता गया मेरी आँखों का अँधेरा भी हटने लगा और मुझे अहसास हो गया कि हाँ अब वो नहीं रही। परसों शाम को उसका एक्सीडेंट हो गया और कल शाम को वो इस दुनिया से अलविदा करके चली गई ।   

तुम जैसे गई हो….

वैसे जाता नहीं कोई…😢😢

उससे मेरी दोस्ती नहीं थी जबकि मैं उसके साथ पूरे 5 साल रही फिर भी मेरी उससे नहीं बनती थी। हम दोनों में बहुत खटपट होती थी, मैं पढ़ने में उससे तेज थी इसीलिए पढ़ाई में उसका मेरे से कोई मुकाबला नहीं था लेकिन बाकी हर फील्ड में मेरी उससे rivalry थी । काफी महत्वकांक्षी लड़की थी वो उसकी आँखे ख्वाबों से भरी हुई थीं। मुझसे उसने एक बार कहा था कि उसे गाँव से निकल के कुछ बड़ा करके दिखाना है तो मैंने कहा था कि मैं इस लक्ष्य में उसका पूरा साथ दूंगी। लेकिन मुझे नहीं पता था कि उसे मेरा साथ नहीं पसंद इसीलिए तो वो सब कुछ छोड़ के ही चली गई। उस लड़की में मुझे एक चीज़ जो सबसे ज्यादा सीखने वाली लगती थी वो थी उसकी बिंदास,बेशर्म, बेलौस, बेहिचक , और बेहिसाब हँसी । जिस हँसी के लिए लड़कियां अक्सर तरसती हैं , पाबन्दियां ही इतनी होतीं हैं तो वो क्या करें लेकिन वो जब हँसती थी बेहिसाब हँसती थी बेपरवाह हँसती थी चाहे उसकी हँसी किसी को दुःख पंहुचाए या किसी को सुकून दे वो कभी ये ध्यान नहीं देती थी वो जब भी हँसती थी तो बस हँसती थी। और उसकी यही हँसी आज सभी को रुला रही है। ख्वाबों से भरी आँखे, जो उसने मूंद ली है, लिए आज वो मिट्टी में मिल जाएगी लेकिन उसकी हँसी की गूंज , उसके ख्वाबों की खुश्बू और उसकी महत्त्वाकांक्षाओं का वज़न सब हवा में ही बाकी रह जाएगा यानि उसके ख्वाब हमेशा जिंदा रहेंगे, कुछ मिट्टी में , कुछ हवा में और …कुछ मुझ में भी।

हम दोनों ने एक-दूसरे का बहुत दिल दुखाया है , जाते-जाते एक बार मिल लेती तो तुझे कसके अपने सीने से लगा लेती मैं और फिर कहीं न जाने देती 😥😥।

भगवान उसकी आत्मा को , उसकी महत्वकांक्षा को और उसकी हँसी को शांति प्रदान करें। RIP dear R 😓😓।

Leave a comment