कुमार विश्वास की कविता “साल मुबारक”कुमार विश्वास की कविता “साल मुबारक”

  बाँटने वाले उस ठरकी बूढ़े ने                                     दिन लपेट कर भेज दिए हैं                                              नए कैलेंडर की चादर में                                              


इनमें कुछ तो ऐसे होंगे उम्र

जो हम दोनों के साझे हों । 

सब से पहले उन्हें छाँट कर गिन तो लूँ मैं ! 

तब बोलूँगा ‘साल मुबारक’ 

वरना अपना पहले जैसा 

हाल मुबारक

Leave a comment