तेरा शुक्रिया ,ऐ बीतते हुए साल!

 चलो सजदा करते हैं इस जाते साल को….                         उठते हैं, बांहे फैलातें हैं,सीने से लगा लेते हैं ,                    सामने खड़े मुस्कुराते साल को।।

साल 2021 नये दशक का नया साल !नया साल ? …हॉं 365दिन पहले तो इसका इस्तकबाल हम लोगों ने नया साल कहके ही किया था न । अभी कितना वक्त बीता होगा बमुश्किल जनवरी से दिसम्बर ही  तो बीता और इतने‌‌ में ही नये साल ने करवट लेकर ‌पुराने साल में अपनी तब्दीली कर ली।                 अच्छा ये बीतता साल हमारा क्या ले जा रहा है या हमें क्या दे जा रहा है ,ये सोचा हैं आपने ?  

वैसे तो इस कोविड के दौर में हमनें हर आते साल‌ को हसरत भरी निगाहों से ही देखा है कि ये नहीं तो ये साल फिर से सब सामान्य कर देगा , लेकिन अभी तक किसी साल के बदन से हमें रक्तरहित , शोकरहित ,और भयरहित चादर नहीं मिली है पिछले तीनो ं ही साल एक से बढ़कर एक कातिल नजर आऐ‌ हैं हमें , पर फिर भी कुछ खास तो देकर गयें हैं हमको।                       चाहे हम 2021 की ही बात कर लें । इस साल हमने कोविड के कई नये रुप देखें , अल्फा ,बीटा,ओमिक्रोन के साथ-साथ ब्लैक, व्हाइट‌  , येलो फंगस आदि ने भी अपनी स्थिति मजबूत की इस साल‌ और इसी के चलते हमनें अपने करीबियों को भी खोया होगा ऐसा कोई जिसकी भरपाई अब कोई साल नहीं कर पाएँगा  । लेकिन इस साल ने हम सभी को इस साल‌ को थैंक्स बोलने का कमसे कम एक कारण तो दिया  ही होगा।                                                                      क्योंकि  वक्त चाहे कितना ही बुुुरा क्योें न हो , उसमें हमारे लिऐ कुछ न कुछ तो अच्छा जरूर छिपा होता है ।                         मैं अपनी बात करुं तो, मैं इस जाते साल को गले से लगा के शुक्रिया करना चाहती हूँ क्योंकि इस साल ने मुुुझे इतना दिया है जो एक साधारण व्यक्ति के खुश रहने के लिए काफी होगा ।     

मैं ये कह सकती हूँ जो कि इस साल ने भले ही आप के साथ कितने ही हादसे किए हो , मगर चेहरे पर मुस्कान लाने वाला भी कुछ जरूर किया होगा । हो सकता है भले ही आपने इस बात पर ध्यान ही नहीं दिया हो !                                          इन 365 दिन में किसी एक दिन तो आपके साथ कुछ स्पेशल हुआ होगा , आपको कोई बात अन्दर तक गुदगुदा कई होगी ,आपके चेहरे पर मुस्कुराहट ने एक कान से दुसरे कान तक का सफर तय किया होगा। आप चाहे तो वो लम्हा या वक्त मुझसे शेयर कर सकते हैं।                                                         

हर नये साल हम कुछ न कुछ नया रेजुलेशन लेते हैं पता नहीं पूरा कर भी पाते हैं या नहीं लेकिन इतना तो पता है कि दूसरा नया साल आते ही हम दूसरा रेजुलेशन तुरन्त उठा लेते हैं।        लेकिन ऐसे वादे उठाने से भी क्या फायदा जो वक्त  के साथ-साथ वक्त की तरह ही बिना कुछ किए बीत जाए!                   चलिए अबकी बार 2022 से हम कोई ऐसा वादा करते हैं जो वक्त के साथ-साथ  बीते नहीं जिसे हम जरुर पूरा कर सके।      ताकि जो काम 2021 में अधूरा रह गया है वो 2022 में जरुर पूरा कर ले।                                                                    क्योंकि गयी हुई कोई भी चीज़ वापस आ सकती है लेकिन गया हुआ समय कभी वापस नहीं आता।                          

तो चलिए 2021 का शुक्रियाअदा करते हुए,जाते साल को श्रध्दांजली और आते साल‌ को पुष्पांजली अर्पित करते हुए कुछ नया कुछ अलग करते हैं इस साल ।                              साल 2021 से जो हमारी शिकायतें हैं , जो  नाराज़़गी हैं उन सब को दरकिनार कर हम 2021 को मुस्कुराते हुए अलविदा करते हैं क्योंकि जाते हुए मेहमान को कौन भला-बुरा सुनाता है यार !    

Leave a comment