“वंश नहीं चलता कान्हा” राधा की अनकही पीड़ा।

राधा होना कितना दुरूह     



   तुम ने आकर पूछा होता                                              मटमैले इस जमुना-जल से                                            यज्ञाश्व जिन्हें अपने पैरों के तले                                कुचलकर कर बढ़ा सदा                                                 जिन के होने का दोष समय ने युग-पुकार पर मढ़ा सदा द्वारकाधीश हो जाने से                                                   जल कर मुरझाई पलकों के                                           काले गड्ढों में छितराए हरनिले सपनों की हत्या का              दोष नहीं मिटता कान्हा                                                    दंश भले चसके युग-युग                                                   पर इन विजयों का सच पूछो तो                                       वंश नहीं चलता कान्हा।                कुमार विश्वास

2 thoughts on ““वंश नहीं चलता कान्हा” राधा की अनकही पीड़ा।”

Leave a comment