आदमी का शिकार आदमी

 हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी।                                 फिर भी तन्हाइयों का शिकार आदमी                                  सुबह से शाम तक बोझ ढोता हुआ                                  अपनी ही लाश का ख़ुद मज़ार आदमी                         


हर तरफ़ भागते दौड़ते रास्ते                                                 हर तरफ़ आदमी का शिकार आदमी।                              रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ।                                     नये दिन नया इंतज़ार आदमी।                                             घर की दहलीज़ से गेहूँ के खेत तक                                    चलता फिरता कोई कारोबार आदमी 

ज़िन्दगी का मुक़द्दर सफ़र दर सफ़र                              आख़िरी साँस तक बेक़रार आदमी।      -( निदा फाजली)

Read once – सातवें आसमान पर….                            तुमने मुझे ईसा बना दिया।                                              लव आजकल।                                                             चाँद का रूप।

Leave a comment